वरठ के लए डिजटल संचार

एमपीसी फाउंडेशन द्वारा (MPC Foundation)

हम सभी एक नए व व यव था के साथ जझू रहेह , और एक मानव जा त के प म हमार व ृ के लए सच है, हम सभी को अनक ुू लत करतेह और हम इसेज द सेपरा ू करतेह । इस लए, महामार क श आत ु म , हमारेसामनेसवाल और चनौती ु यह थी क हम कैसेअभी भी व र ठ नाग रक के लए सामािजक कने शन दान करतेह जो समदायु म काय म म स य प सेभाग लेरहेथे? हम म सेकई लोग के लए, इसका उ र सरल है - डिजटल जानेदो। हक कत म , ऐसा करना आसान था, या इस लए हमनेसोचा था।


हम सखद ु आ चय ह ु आ। ौ यो गक के लए उ सकता ु से आ चयच कत और सबसेअ धक भाग के लए, न क िजतनेहमने सोचा था क ऑनलाइन मी टगं लेटफॉम का आकलन करनेवाल सम याओंक पनराव ु ृ ह ुई थी। अकं खदु ह अपनी बात कर रहे ह । कसी भी एक स ताह म , अब हमारेपास 200 सेअ धक व र ठ नाग रक ह , जो सामािजक, सीखनेऔर शार रक ग त व धय के असं य ह , सभी ऑनलाइन ह । और वह सं या बढ़ती रहती है!


जो बात हम हैरान करती है, वह है यवहार म बदलाव। सबसेपहले, व र ठ नाग रक को ऑनलाइन ो ा मगं का उपयोग करनेके लए अपने डवाइस को ने वगेट करनेक अपनी मता सेसखद ु आ चय ह ु आ। इससेउनम बह ु त व वास पदा ै ह ु आ और उ ह ने अपनेआ मस मान को फर से ा त कया। दसरा ू , जसै े-जसै े समय बीतता गया, वेवा तव म ऑनलाइन डल वर क सराहना करनेलगे । ऐसा इस लए है य क उनम सेकई के लए, यह पहल बार हैजब वे वतं प सेएक सवार क ती ा कए बना, ग त व धय म भाग लेनेया कसी को चलानेके लए यव था करनेम स म ह । वेमौसम के साथ संघष नह ंकरनेक स वधा ु भी पसंद करतेह । वेअपनेघर के आराम सेह इतनी सार ग त व धय म भाग लेनेम स म होनेक स वधा ु को पसंद करते थे । वा तव म एक व र ठ नेहमसेकहा, “म अब और अ धक ग त व धय म भाग लेता ह ू ं य क यह बह ु त स वधाजनक ु है । मन े भी नए दो त बनाए! ”


व र ठ नाग रक और बड़ेवय क के लए सामािजक भागीदार के लाभ को अनसंधान ु सा ह य म अ छ तरह से ले खत कया गया है, जो सभी इस न कष क ओर इशारा करतेह क सामािजक भागीदार और बेहतर मान सक और शार रक वा य के बीच सकारा मक संबंध है । उदाहरण के लए, न न ल खत व श ट लाभ शोध प , सामािजक भागीदार और इसके लाभ , मा नटोबा सरकार म ले खत ह :

- सामािजक ग त व ध म दै नक या सा ता हक आधार पर भाग लेनेवालेव धृ वय क म मनो ंश वक सत होनेका 40% कम जो खम था, जो सामािजक प से य त नह ं थे

- एक ह त ेप िजसनेह के ती ता के यायाम के साथ सामािजक ग त व धय को संयोिजत कया है, जो वय क क म तृ समारोह और नींद म काफ सधार ु करता है

- अपनेसामािजक ग त व ध तर को बढ़ानेवाले येक 7 परानु े वय क के लए, एक यि त 5 साल क समय सीमा म वकलांगता सेम तु रहेगा।

- बढ़ ह ुई सामािजक ग त व ध के साथ, ग तशीलता वकलांगता वक सत करनेवालेपरानु ेवय क का अनपात ु 62% सेघटकर 43%

- 19% गर जाएगा। - सामािजक भागीदार सेअवसाद क संभावना कम हो जाती है, एक मान सक वा य दख ु जो व र ठ लोग को भा वत करता है ।


सामा य तौर पर, व र ठ के लए सामािजक सहभा गता के अवसर का ावधान बह ु त आव यक सामािजक वातावरण बनाता है, सामािजक समथन के एक नेटवक को बढ़ावा देता है, िजससे व र ठ के लए सामािजक अलगाव सेजड़ु ेनकारा मक मान सक और शार रक वा य भाव के खलाफ व र ठ नाग रक क र ा होती है । एमपीसी फाउंडशने म , हम भा यशाल ह क व र ठ और व धृ वय क के लए सामािजक अलगाव को कम करनेके लए हतधारक क एक भीड़ के साथ काम करनेम स म ह । उनके समथन सेहम कई तरह क ग त व धय क पेशकश करने म स म ह , और सामािजक गड़बड़ी के इस समय के दौरान, सभी व र ठ नाग रक के लए मह वपण ू तकनीक सहायता काय म को ऑनलाइन ए सेस करनेके लए। अ धक जानकार या


पंजीकरण करनेके लए, क ृ पया कॉल कर / पाठ (587)480-7373 या ईमेल info@mpcfdn.ca